• Wed. Nov 25th, 2020

Campus Beat

Independent Student News Organization

Hindi

  • Home
  • बेहिसाब फंड की मांग कर रहे है कॉलेज: सिसोदिया

बेहिसाब फंड की मांग कर रहे है कॉलेज: सिसोदिया

दिल्ली यूनिवर्सिटी आए दिन चर्चा का विषय बना रहता है कभी छात्रों को लेकर तो कभी शिक्षकों को लेकर उनके वेतन को लेकर भी आए दिन प्रदर्शन किए जाते हैं…

विधेयक पर संघर्ष सरकार और किसान के बीच

हाल ही में कृषि सुधार से संबंधित तीन विधेयक किसान उत्पादन व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) विधेयक, किसान (सशक्तिकरण और संरक्षण) विधेयक मूल्य आश्वासन और सेवा विधेयक और आवश्यक…

केंद्रीय विश्वविद्यालय की अंतिम परीक्षा आज

लोकडाउन और कोरोना के कारण नही दे पाए हजारो विद्यार्थी प्रवेश परीक्षा सेंट्रल यूनिवर्सिटी सयुंक्त प्रवेश परीक्षा 18 सितंबर से शुरू हो गयी थी इसके अंतर्गत केंद्रीय विश्वविद्यालय में नामांकन…

क्या है दिल्ली विश्वविद्यालय की ओपन-बुक परीक्षा प्रणाली?

दिल्ली विश्वविद्यालय ने 17 अगस्त के प्रेस रिलीज़ में कहा की कोरोना महामारी के स्थिति को देखते हुए हमने अंतिम वर्ष के नियमित, NCWEB एवं SOL के विद्यार्थियों के लिए…

भाजपा की मांग पत्रकार का सामान और इंजीनियरिंग कॉलेज का निर्माण

झारखण्ड विधानसभा के मानसून सत्र मे भाजपा विपक्ष की स्वर्णिम भूमिका निभाते हुए विपक्ष को विभिन विषयो पर घेरने के लिए तैयार है । भाजपा विधायक नवीन जायसवाल, अमर बाउरी,…

अनुराग कश्यप: शिकार या शिकारी

अनुराग कश्यप से मेरी वैचारिक असहमति है, कई विषयों पर मैं उनके विचारों को नहीं मानता। देश भर में कई ऐसे लोग होंगे जो अनुराग कश्यप को ‘देशद्रोही’ कहते हैं।…

पुष्पम प्रिया चौधरी: बिहार की गरिमा या राजनीतिक एजेंडा?

बिहार ने राजनेताओं की क्रमागत उन्नति को देखा है। 74 के आंदोलन से निकले सभी नेता आज शीर्ष स्थानों पर हैं। सवाल ये है कि क्या बुजुर्गों के प्रभुत्व वाले…

एक हरामखोर लड़की की दास्ताँ

बेहूदगी और बेशर्मी की सीमा लांघ चुके हैं हमलोग। राजनितिक एजेंडे के लिए किसी भी हद तक गिर जाने की पद्धति हो गयी है हमारी। कुछ ही दिन पहले महाराष्ट्र…

असभ्य पत्रकारिता?

अपने पत्रकारिता की पढाई ख़त्म करने के बाद मै उस क्षेत्र से रूबरू हुआ  जहाँ शब्दों की गहराई व्यक्ति की उंचाई तय करती है. एक साल से अपने शिक्षको का …

“आज़ाद” कश्मीर की गुलाम सोच !

इंसान की हैवानियत जब अपने चरम पर होती है तो अक्सर वो मजहब को अपने स्वार्थ सिद्धि का एक जरिया बना लेता है। ऐसा ही कुछ हो रहा है कश्मीर…