क्या है दिल्ली विश्वविद्यालय की ओपन-बुक परीक्षा प्रणाली?

क्या है दिल्ली विश्वविद्यालय की ओपन-बुक परीक्षा प्रणाली?

दिल्ली विश्वविद्यालय ने 17 अगस्त के प्रेस रिलीज़ में कहा की कोरोना महामारी के स्थिति को देखते हुए हमने अंतिम वर्ष के नियमित, NCWEB एवं SOL के विद्यार्थियों के लिए 10 अगस्त 2020 को ओपन-बुक एग्ज़ाम (Open Book Examination) प्रणाली की शुरुआत की। वैसे विद्यार्थी जो सुदूरवर्ती क्षेत्रों से हैं और वो किसी कारणवश यूनिवर्सिटी के पोर्टल पर अपनी उत्तर पुस्तिका डालने में असमर्थ है, उन विशेष विद्यार्थियों के सहूलियत को मद्देनज़र हमने एक ईमेल जारी की है जिसके माध्यम से छात्र बड़ी आसानी से अपनी उत्तर को हमारे पास भेज पाए हैं।

कुल आंकड़ों की बात करें तो नियमित NCWEB तथा SOL के छात्रों द्वारा क्रमशः 207264 एवं 335382 उत्तर पुस्तिका को प्रस्तुत करने की कोशिश की गयी जबकि OBE पोर्टल पर नियमित NCWEB एवं SOL के छात्रों द्वारा क्रमशः 181539 तथा 272673 उत्तर प्रस्तुत किये गए है। उन्होंने ये भी कहा की ये आकड़े केवल OBE पोर्टल पर डाले गए उत्तर पुस्तिका का है जबकि ईमेल पर ये आकड़ा ऊपर में लिखित पोर्टल के आंकड़ों से कहीं ज्यादा है। इसके साथ ही उन्होंने इस एग्जाम को सुचारु रूप से संचालित कराने में अथक प्रयास तथा योगदान के लिए सभी विद्यार्थियों, अभिभावकों तथा शिक्षकों को धन्यवाद भी दिया है।

ओपन बुक एग्ज़ाम (OBE) क्या है?

ओपन-बुक परीक्षा प्रणाली में परीक्षार्थियों को सवालों के जवाब देते समय अपने नोट्स, पाठ्य पुस्तकों और अन्य स्वीकृत सामग्री की मदद लेने की अनुमति होती है. छात्र अपने घरों में बैठकर वेब पोर्टल से अपने-अपने पाठ्यक्रम के प्रश्न पत्र डाउनलोड करेंगे और सवालों के जवाब उत्तर-पुस्तिका में लिखकर जमा करेंगे.

इसके फायदें तथा नुकसान:

फायदें :

  • कोरोना का प्रकोप चरम पर है। इस जोखिम भरे समय में इस प्रणाली के मदद से छात्र व्यापक महामारी के खतरे के आसार से दूर होंगे।
  • चूँकि दिल्ली विश्वविद्यालय जैसे अन्य विश्वविद्यालयों में OBE मोड को पहली बार पेश किया गया है इसलिए छात्रों को इसे सिखने तथा जानने का अनुभव मिला होगा।

नुकसान :

  • निश्चित समय सीमा, उचित इंटरनेट सुविधायें और गैजेट की आवश्कता उन छात्रों क लिए एक दंड के सामान है जिसका आर्थिक स्थिति बहुत ख़राब है।
  • छात्र वास्तव में मानसिक आघात की स्थिति में हैं, क्यूंकि इस प्रणाली का उचित ज्ञान अभी भी नहीं है।
Comments

Ranjan Kumar Gupta

Ranjan Kumar Gupta is a student of Delhi School Of Journalism, University of Delhi. He is also an Ex-Navodayan (J.N.V KAIMUR, BIHAR). He writes to bring about good changes in thoughts and processes.