• Fri. Dec 3rd, 2021

Campus Beat

Independent Student News Organization

सुबह की 5 अच्छी आदतें जो आपको सफल बनाती हैं।

Vidya Sharma

ByVidya Sharma

Oct 3, 2021

Disclaimer: The views and opinions expressed in this article are those of the authors and do not necessarily reflect the views of Campus Beat. Any issues, including, offense and copyright infringment, can be directly taken up with the author.

woman walking on pathway during daytime

हर कोई चाहता है कि उसकी सुबह हर रोज अच्छी हो। पर जरूरी नहीं कि हर बार चीज़े अच्छी ही हो, कभी कभी हमें कुछ चीजों को अपने लिए अच्छा बनाना भी पड़ता है। ऐसे ही अगर हम चाहते हैं कि हमारी हर सुबह अच्छी और ख़ास हो तो उसके लिए हमे भी कुछ करना चाहिए, क्योंकि सुबह की शुरुआत ही मूड को सेट करती है। अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन के जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि सुबह की आदतें एक ऐसा जीवन बनाने मदद करती हैं, जहाँ खुशी, संतुष्टि और बहतर प्रोडक्टिविटी पाई जा सकती है। ज्यादा मुश्किल नहीं है मॉर्निंग को गुड बनाने में, बस कुछ आदतों को अपनाने की देर है।

  1. सुबह जल्दी उठे – सुबह जल्दी उठने का मतलब यह नहीं कि नींद पूरी न लें, इसका मतलब है कि 6-8 घंटे की नींद भी ले और सुबह समय पर उठे।
  2. योग व मेडिटेशन करें – नींद के बाद वाली सुस्ती को भागे और शरीर में फुर्ती लाने के लिए रोज सुबह योग करें। जिससे बॉडी फ्लैक्सिबल बनेगी और योग से कई बीमारी भी नहीं होगी। साथ ही 10-15 मिनेट के लिए मेडिटेशन भी करें जिससे दिमाग शांत होगा और दिन भी अच्छा बीतेगा।
  3. सुबह उठते ही फोन देखना छोड़ दें – आज आधे से ज्यादा लोगों की यह एक आदत सी बन गई है कि उठते ही सुबह फोन चैक करते हैं। इसकी सीधा असर हमारे दिमाग और आँखों पर पड़ता है। नींद से उठते ही हमारी आँखों की पुतलियां कमजोर और दिमाग सुस्त रहता है। ऐसे में अगर हम फोन चलाते है तो कि इससे आँखें कमजोर हो सकती हैं।
  4. अपनी दिनचर्या को एक कागज में उतारें – वह सभी काम जो आपको पूरे दिनकरने हैं उनका शेड्यूल एक कागज में लिख कर ऐसी जगह लगा दे जहाँ पर वह हर समय आपकी नज़रों के सामने रहे। इससे आप सारे समय पर पुरा कर सकेंगे। इसका यह भी फायदा है कि अगर आप किसी काम को भूल भी रहे हो तो, उसे याद करने में आसानी रहेगी, क्योंकि वह काम आपने सुबह ही कागज में लिख लिया था।
  5. किताबें पढ़ना – यहां पढ़ना आपकी स्कूली/कॉलेज शिक्षा से अलग है। हमें लुक ऐसी पुस्तकों का चयन व उन्हें पढ़ना चाहिए जो हमारी सोच में रचनात्मकता लाने और बौद्धिक क्षमता बढ़ाने में सक्षम हों। यह पुस्तकें उपन्यास, प्रतिनिधि कहानियां, काव्य पुस्तकें आदि हो सकती हैं, जो आपको पसंद हो और जिनमें आपकी रुचि हो।
Comments