• Mon. Oct 26th, 2020

Campus Beat

Independent Student News Organization

आरक्षण समाधान या समस्या?

Ayush Kumar Singh

ByAyush Kumar Singh

Oct 17, 2020

Disclaimer: The views and opinions expressed in this article are those of the authors and do not necessarily reflect the views of Campus Beat. Any issues, including, offense and copyright infringment, can be directly taken up with the author.

boy in black crew neck t-shirt standing beside boy in black crew neck t-shirt
Read Time:2 Minute, 42 Second

आपको क्या लगता है आरक्षण सही है? क्या जो नियम भेद भाव मिटाने के लिए बने थे क्या यह अब भेद भाव नहीं बढ़ा रहे है। कुछ जाती और प्रांतों को अधिक अधिकार देना जबकि उस प्रांत में भी कई सक्षम व्यक्ति जो सक्षम है। उनको सारे सुख सुविधाएं प्राप्त है फिर भी आरक्षण का लाभ उठा रहे है यह क्या आरक्षण का सही उपयोग है। अगर आरक्षण सही है तो क्यों आरक्षण योगता को ठेस पहुंचा रही है आरक्षण के वजह से परिश्रम करने वाले बच्चों को मानसिक तनाव क्यों हो रहा है। क्यों ऐसा क्यों है? जब देश एक है लोग एक है तो अधिकार एक क्यों नहीं क्या राजनैतिक दलों को अपनी कुर्सी की इतनी चिंता है कि किसी एक प्रांत को अधिक अधिकार देना और दूसरे प्रांत को कम अधिकार देना स्वीकार है। शायद हां राजनैतिक मुद्दों में ही रहता है अब बस आरक्षण। आरक्षण ही तो भेद भाव करता है भेद भाव मिटाने के लिए आरक्षण हटना जरूरी है। आप ही एक बात सोचिए अगर आप बहुत परिश्रम कर रहे है किसी पद को पाने के लिए लेकिन कोई आपसे कम अंक लके उस पद पे आजाए तो आपको कैसा लगेगा ऐसा सिर्फ नौकरी के ही समय नहीं बल्कि बच्चों के के भविष्य की शुरुआत से ही यह एक संकट के रूप में आजाता है। कोई बच्चा बहुत मेहनत करके भी सफल नहीं हो पाता है और कोई बच्चा कम अंक लेक भी सफल हो जाता है हमारे देश में आरक्षण 50% से अधिक नहीं जा सकता है लेकिन किसी भी राज्य में 50% आरक्षण मतलब 50% मेहनती बच्चों को आसफल रहना आप ही बताइए क्या यह एक सही है? अच्छा क्या आरक्षण वेतन से निर्धारित नहीं हो सकती है क्या क्यों की आरक्षण की जरूरत किसी भी प्रांत को नहीं बल्कि जरूरत उन्हें है जिनको आर्थिक समस्या है क्यों कि जात प्रांत करके लोगो को बाता ही जाता है बस पर लेकिन गरीब जाती देख के नहीं आती है तो एक और बार यह सवाल मेरा क्या आरक्षण जातियों के आधार पे देना सही है?

0 0
Comments